• Tue. Mar 5th, 2024

The uk pedia

We Belive in Trust 🙏

30 करोड़ की लागत से पौड़ी में यहॉ बनेगा राज्य का पहला माउंटेन म्यूजियम व प्लेनेटोरियम

Apr 29, 2023
DM Pauri gave instructions for magisterial inquiry of the accident vehicle within 15 days.DM Pauri gave instructions for magisterial inquiry of the accident vehicle within 15 days.
Spread the love

पौड़ी।  उत्तराखंड से राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने अपनी सांसद निधि से उत्तराखंड को एक अनूठी सौगात दी है। राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी की पहल पर प्रदेश के पौड़ी जनपद में पहला संयुक्त माउंटेन म्यूजियम और प्लेनेटोरियम का निर्माण किया जायेगा। जिसके लिए पहली किस्त भी जारी कर दी गई है। यहॉ माउंटेन म्यूजियम (पर्वतीय संग्रहालय) व प्लेनेटोरियम (तारामंडल) के निर्माण के लिए 4 करोड़ रुपए की प्रारंभिक राशि जारी कर दी गई है। आपको बता दें कि इन दोनों संस्थानों के निर्माण में लगभग 30 करोड़ रुपए की लागत खर्च होगी। इस पूरे प्रोजेक्ट का खर्च सांसद अनिल बलूनी अपनी सांसद निधि व अन्य संस्थाओं की मदद से जुटाएंगे। साथ ही यह राज्य का पहला और अखिल भारतीय स्तर पर भी अनूठा केंद्र होगा जहां खगोल और भूगोल, इतिहास और संस्कृति से एक ही स्थान पर परिचित कराने का प्रयास किया जाएगा। डीएम पौड़ी ने बताया कि प्रस्तावित प्रोजेक्ट के लिए पहली धनराशी अवमुक्त हो चुकी है। जल्द ही टेंडर प्रक्रिया होने के बाद योजना को धरातल पर उतार लिया जायेगा।

राज्य सभा सांसद अनिल बलूनी ने कहा कि प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने भी इस विषय में उत्साह दिखाया है। उन्होंने आश्वस्त किया है कि राज्य सरकार की ओर से यथासंभव सहयोग किया जाएगा और इस परिसर में शैक्षिक, ज्ञानवर्धक और रोचक गतिविधियों के लिए राज्य सरकार की ओर से जो भी आवश्यकता होगी वह पूर्ण की जाएगी। श्री बलूनी ने मुख्यमंत्री जी की सदाशयता हेतु उनका आभार प्रकट किया है।

सांसद बलूनी ने कहा कि यह राज्य का पहला और अखिल भारतीय स्तर पर भी अनूठा केंद्र होगा जहां खगोल और भूगोल, इतिहास और संस्कृति से एक ही स्थान पर परिचित कराने का प्रयास किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पौड़ी नगर कि अपनी विशिष्ट भौगोलिक संरचना है, जिसके समक्ष एक लंबी पर्वत श्रृंखला और हिमालय चोटियों का सुस्पष्ट विहंगम दृश्य दिखाई देता है, जो पौड़ी नगर को प्लेनेटोरियम (तारामंडल) व माउंटेन म्यूजियम (पर्वतीय संग्रहालय) के संयुक्त निर्माण का आदर्श स्थल बनाता है। जो भविष्य में देश विदेश के खगोल विषय के जिज्ञासुओं का प्रिय डेस्टिनेशन बनेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page