• Thu. Feb 22nd, 2024

The uk pedia

We Belive in Trust 🙏

‘‘एक राष्ट्र एक चुनाव‘‘ विषय पर परिचर्चा का आयोजन

May 21, 2023
‘‘एक राष्ट्र एक चुनाव‘‘ विषय पर परिचर्चा का आयोजन
Spread the love

श्रीनगर गढ़वाल। हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल विश्वविद्यालय के राजनीति विज्ञान विभाग एवं डॉक्टर अंबेडकर उत्कृष्टता केंद्र के संयुक्त तत्वाधान में ‘‘एक राष्ट्र एक चुनाव‘‘ भारत के चुनावी भविष्य का विश्लेषण विषय पर परिचर्चा का आयोजन किया गया।

मौके पर बतौर मुख्य वक्ता जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के स्कूल आफ इंटरनेशनल स्टडीज के प्रो० फूल बदन रहे। उन्होंने कहा कि किसी लोकतंत्र में जितनी सहजता और पारदर्शिता से जनता को अपना प्रतिनिधि चुनने की आजादी होती है वह उतना ही बेहतर लोकतंत्र कहलाता है। देश में एक साथ चुनाव कराने के साथ-साथ कुछ चुनावों में सुधार करने की आवश्यकता हैं। उन्होंने कहा कि हमें एक राष्ट्र, एक चुनाव के विषय में चर्चा करने से पूर्व चुनाव में उत्पन्न भ्रष्टाचार व लोकतंत्र संबंधित नकारात्मक पक्षों को सुधारने की भी आवश्यकता है।

मानविकी और सामाजिक विज्ञान की संकाय अध्यक्ष प्रोफ़ेसर हिमांशु बौड़ाई ने चुनाव के ऐतिहासिक पक्षों का परिचय देते हुए कहा कि पहले स्वतंत्रता के बाद 1967 तक चुनाव एक साथ ही होते थे किंतु धीरे-धीरे परिस्थितियां बदलने लगी। एक राष्ट्र एक चुनाव के विषय में उन्होंने इसके लिए आने वाली समस्याओं व उनके समाधान के ऊपर अपने विचार रखें जिसका प्रारंभ उन्होंने अंबेडकर के वक्तव्य के साथ किया – आप किसी भी व्यवस्था को अपना लीजिए, जब तक आप नहीं बदलोगे कुछ नहीं बदलेगा। समाज में उपस्थित जाति, धर्म एवं भाषा को उन्होंने लोकतंत्र के लिए तथा चुनावों के लिए नुकसानदेह बताया।

राजनीति विज्ञान विभाग के विभागाध्यक्ष प्रोफेसर एमएम सेमवाल ने भारतीय चुनावों में शुरू से लेकर अभी तक हुए बदलाव के विषय में विस्तार से बताया जिसमें उन्होंने कहा कि स्वतंत्र भारत के पहले तीन चुनावो में मात्र 10 करोड़ रुपए का खर्चा आया था किंतु 2019 के लोकसभा चुनाव में लगभग 60 हजार करोड़ रुपए खर्च हुए हैं। वर्तमान चुनावों के विषय में बात करते हुए उन्होंने कहा कि जब भी चुनाव होते हैं तब मीडिया केवल चुनाव पर ही चर्चा करता है विकास के अन्य मुद्दे गौण हो जाते हैं। इसके साथ ही पहले राजनेताओं में धैर्य, सहजता के साथ राष्ट्रहित का भाव भी रहता था लेकिन आज प्रत्येक राजनेता अपने दल एवं चुनाव तक सीमित हो गया है।
कार्यक्रम का संचालन शोध छात्रा विदुषी डोभाल द्वारा किया गया। कार्यक्रम में सर्वश्रेष्ठ वक्त्ता का प्रमाण पत्र राजनीति विज्ञान विभाग के एम० ए ० के छात्र दीपक कुमार को मिला। इस कार्यक्रम में क्।ब्म् से डॉक्टर आशीष बहुगुणा एवं डॉक्टर प्रकाश , तथा राजनीति विज्ञान विभाग के शोध छात्र शुभम, देवेंद्र, अरविंद,आयुषी, शैलजा एवं अन्य विभागों के स्नातक एवं स्नातकोत्तर के छात्र छात्राएं उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page